पश्चिमी हिमालय में महामारी से प्रतिरोध: ‘साधारण’ लोगों की असाधारण कहानियां

पश्चिमी हिमालय में महामारी से प्रतिरोध: ‘साधारण’ लोगों की असाधारण कहानियां   कोविड महामारी ने हमारी नाजुक आर्थिक प्रणाली की कमजोरियों को उजागर कर दिया है। जब तालाबंदी की घोषणा की गई थी, हमने आवश्यक उत्पादों की जमाखोरी करने वाले लोगों की कहानियां सुनीं। युवाओं को बुजुर्गों के बजाय मेडिकल …

नेचर इन विंटर

आइए, प्रकृति को देखें! क्या आप एक प्रकृति उत्साही हैं जो प्रकृति की सुंदरता का अवलोकन करना पसंद करते हैं? क्या आप भी प्रकृति के सभी खूबसूरत और रहस्यमय क्षणों की तस्वीरें क्लिक करना पसंद करते हैं? टिटली ट्रस्ट और सेंटर फॉर इकोलॉजी डेवलपमेंट एंड रिसर्च (CEDAR) प्रकृति अवलोकन को …

आइए मसूरी में बर्डिंग करते हैं!

आइए मसूरी में बर्डिंग करते हैं! बिडिंग एक प्राकृतिक खजाने की खोज पर जाने जैसा है! जिधर देखो, उधर आपको राजसी और सुंदर वनस्पतियाँ, वन्य जीवन और निश्चित रूप से पक्षी मिलेंगे।   टिटली ट्रस्ट और सेंटर फॉर इकोलॉजी डेवलपमेंट एंड रिसर्च (CEDAR) 17 और 18 जनवरी 2021 को मसूरी …

हरेला सोसायटी ने कोरोना के खिलाफ लड़ाई में विकसित किया पर्पल क्यूब

कोरोनावायरस महामारी अब तक 185 देशों में एक लाख से अधिक लोगों की जान और बीस लाख से अधिक लोगों को संक्रमित किया हैं। इससे व्यक्तिगत सुरक्षात्मक उपकरणों (पीपीई) जैसे मुखौटे, स्वास्थ्य किट, और चिकित्सा उपकरणों जैसे वेंटिलेटर की कमी हुई है। इन चुनौतियों के बावजूद, पिथौरागढ़ की हरेला सोसायटी …

भारत की ग्रेटा थुनबर्ग और जलवायु परिवर्तन के लिए उनकी लड़ाई

आपने ग्रेटा थुनबर्ग के बारे में सुना होगा,स्वीडेन की एक युवा लड़की जो जलवायु परिवर्तन के बारे में विश्व स्तर पर बात करती है। ग्रेटा सरकारों और विश्व नेताओं को कार्य करने की जरुरत के बारे में भी बात करती है और वो अकेली नहीं है। भारत में भी जलवायु …

कहानी पलायन की : उत्तराखंड

पिछले एक दशक में, उत्तराखंड बड़े पैमाने पर पलायन को दर्शा रहा हैं और 950 से अधिक गाँव पूरी तरह से खत्म हो गए हैं। 3500 से अधिक गाँवों में 50 से कम की आबादी हैं।